Revers Important Questions नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य Now

Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य): सरकारी नौकरी पाने के लिए और परीक्षा में पास होने के लिए सबसे जरूरी होता है, अपने सामान्य ज्ञान के स्तर को बढ़ाना। सरकारी नौकरी के लिए परीक्षा में पूछे गए सभी विषयों में से Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य) एक ऐसा विषय है जो परीक्षा में उम्मीदवार को गिरा भी सकता है और उठा भी सकता है। अगर आप दूसरों से आगे निकलना चाहते हैं तो जरुरी है कि आप Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य) के विषय पर अच्छी पकड़ रखें ।

देश में हर रोज रेलवे, बैंक, पुलिस, आर्मी आदि विभिन्न क्षेत्रों में सरकारी नौकरियां निकलती रहती हैं। जिसके लिए लाखों लोग आवेदन करते हैं और परीक्षा के लिए तैयारी करते हैं और परीक्षा भी देते हैं। लेकिन कुछ लोग ही ऐसे होतें हैं जो परीक्षा को पास कर लेते हैं और जिनका सरकारी नौकरी के लिए सिलेक्शन हो पाता है। बहुत से लोगों को सरकारी नहींं मिल पाती जिसकी वजह से वो निराश हो जाते हैं। जिन लोगों को सरकारी नौकरी नहीं मिल पाती उसके कई कारण हो सकते हैं। जिनमें से एक कारण यह भी होता है कि उन्होंने या तो मेहनत नहीं कि या फिर उनके ज्ञान में कहीं न कहीं कमी रह गई।

Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)

Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य) : यहां पर सामान्य जीके से संबंधित सभी प्रश्न दिए गए हैं, जो परीक्षा की दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण हैं। इन प्रश्नों से आपको परीक्षा में जरूर मदद मिलेगी।

भारत की प्रमुख नदियां

📘सिन्धु नदी

इसका उद्गम तिब्बती क्षेत्र में कैलाश पर्वत श्रेणी में बोखर चू के निकट एक हिमनद से होता है जो 4,164 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है. तिब्बत में इसे सिंघी खंबान या शेर मुख कहते हैं. सिन्धु नदी कराची के पूर्व में अरब सागर में जा गिरती है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)

📘सतलज

सतलज नदी का उद्गम (origin) तिब्बत में कैलाश पर्वत के दक्षिण में स्थित मानसरोवर झील के समीप राक्षस ताल है. पर्वतीय क्षेत्र को पार करने के बाद पंजाब में रूपनगर के निकट यह मैदानी भाग में प्रवेश करती है. यह रावी, चेनाब और झेलम नदियों का संयुक्त जल एकत्रित करके पाकिस्तान में मिथनकोट नामक स्थान पर सिन्धु नदी (sindhu river) में जा गिरती है।

📘झेलम

यह कश्मीर की घाटी के दक्षिण-पूर्व में 4900 मीटर की ऊँचाई पर स्थित वीरिनाग के निकट झरने से निकलती है. कश्मीर में बहुत-सी नदियाँ इससे आकर मिलती हैं. पाकिस्तान में प्रवेश करने से पहले यह नदी श्रीनगर और वूलर झील से बहते हुए एक तंग व गहरे महाखंड से गुजरती है और पाकिस्तान में झंग के निकट यह चेनाब नदी (chenab river) से जा मिलती है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)

📘चेनाब या चंद्रभागा

चेनाब, सिन्धु की सबसे बड़ी सहायक नदी है. यह चंद्रा और भागा दो नदियों के मिलने से मिलती हैं इसलिए इसे Chandrabhaga भी कहते हैं।

📘रावी

रावी, सिन्धु की एक अन्य सहायक नदी है. यह हिमाचल प्रदेश की कुल्लू पहाड़ियों में रोहतांग दर्रे के पश्चिम से निकती है और राज्य की चंबा घाटी से बहती है. अपने उद्गम (origin) स्थान से शुरू होकर पाकिस्तान में मुल्तान के निकट चेनाब नदी के साथ मिलने तक यह 720 किमी. की दूरी तय करती है।

📘व्यास

यह नदी हिमालय में स्थित रोहतांग दर्रे में 4067 मीटर की ऊँचाई पर स्थित व्यास कुंड से निकलती है. पूरे सिन्धु प्रवाह तंत्र में व्यास ही एक ऐसी नदी है जो पूर्णतया भारत में बहती है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)

📘गंगा

यह उत्तरी भारत की सबसे प्रमुख नदी है. इसके अपवाह क्षेत्र में भारत के सबसे घने बसे और उपजाऊ राज्य उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल आते हैं।

📘यमुना

यमुना, गंगा की सबसे पश्चिमी और सबसे लम्बी सहायक नदी (tributary river) है. इसका उद्गम (origin) यमुनोत्री हिमनद है. इसका अधिकाँश जल सिंचाई उद्देश्यों के लिए पश्चिमी और पूर्वी यमुना नहरों और आगरा नाहर में आता है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)

📘रामगंगा

यह नदी गैरसेन के निकट गढ़वाल की पहाड़ियों से निकलने वाली अपेक्षाकृत छोटी नदी है. अंत में कन्नौज के निकट यह गंगा नदी में मिल जाती है।

📘काली, काली गंगा, शारदा या सरजू

इस नदी का उद्गम उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में है. यह भारत-नेपाल सीमा के साथ बहती हुई, जहाँ काली या चाइक कहा जाता है, घाघरा नदी में मिल जाती है।

📘घाघरा

घाघरा नदी पहाड़ी क्षेत्र में कर्णाली या कौरियाला और मैदान में घाघरा कहलाती है. शारदा नदी इससे मैदान में मिलती है और अंत में छपरा, बिहार में यह गंगा नदी में विलीन हो जाती है।

📘गंडक

यह नदी दो धाराओं कालीगंडक और त्रिशूलगंगा के मिलने से बनती है. बिहार के चंपारन जिले में यह गंगा मैदान में प्रवेश करती है और पटना के निकट सोनपुर में गंगा नदी में जा मिलती है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)

📘कोसी

यह गंगा की सबसे बड़ी सहायक नदियों में से एक है. इसका उद्गम (origin) तिब्बत में माउंट एवरेस्ट के उत्तर में है, जहाँ से इसकी मुख्य धरा अरुण निकलती है. इस नदी में बाढ़ें (flood) बहुत आती हैं, जिससे अपार जन-धन में हानि होती है. इसलिए इसे शोक की नदी भी कहते हैं।

📘चम्बल

यह नदी मध्य देश में महू के निकट जनापाव पहाड़ी से निकलती है जो समुद्र तल से 616 मीटर ऊँची है।

📘बेतवा

यह मध्य प्रदेश में भोपाल से निकलकर उत्तर-पूर्वी दिशा में बहती हुई भोपाल, ग्वालियर, झाँसी, जौलान आदि जिलों में होकर बहती है।

📘सोन

गंगा के दक्षिण तट पर सों एक बड़ी सहायक नदी है, जो अमरकंटक पठार से निकलती है. पठार के उत्तरी किनारे पर जलप्रपातों की श्रृंखला बनाती हुई यह नदी पटना से पश्चिम में आरा के पास गंगा नदी में विलीन हो जाती है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)

📘ब्रह्मपुत्र

ब्रह्मपुत्र नदी को ब्रह्मा की बेटी भी कहा जाता है. विश्व की सबसे बड़ी नदियों में से एक ब्रह्मपुत्र का उद्गम कैलाश पर्वत श्रेणी में मानसरोवर झील के निकट चेमायुंगडुग हिमनद में है।

📘गोदावरी

इसे दक्षिण गंगा के नाम से भी जाना जाता है। यह महाराष्ट्र में नासिक जिले से निकलती है और बंगाल की खाड़ी में जाकर गिरती है।

📘महानदी

महानदी छत्तीसगढ़ के रायपुर जिले में सिहावा के निकट निकलती है। यह उड़ीसा से बहती हुई अपना जल बंगाल की खाड़ी में विसर्जित करती है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)

📘कृष्णा

यह पूर्व दिशा में बहने वाली दूसरी बड़ी प्रायद्वीपीय नदी है, जो सह्याद्री में महाबलेश्वर के निकट निकलती है। इसकी कुल लम्बाई 1,401 किमी. है।

Revers Important Questions & Answer One Liner

  • भारत में अपवाह तंत्र को मुख्यतः दो भागों में बांटा गया है।
  • सतलुज, व्यास, रावी, चेनाब, और झेलम सिंधु की सहायक नदी हैं।
  • झेलम नदी का उद्गम स्थल पीरपंजाल से होता है।
  • गंगा नदी का उद्गम स्त्रोत गंगोत्री है।
  • यमुना नदी का उद्गम स्त्रोत यमुनोत्री है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)
  • घाघरा नदी को सरयू के नाम से भी जाना जाता है।
  • गंगा नदी का कुल बेसिन 12500 वर्ग किमी है।
  • यमुना ताजेवाला स्थान से मैदानी भागों में प्रवेश करती है।
  • बंग्लादेश में गंगा को पद्मा के नाम से जाना जाता है।
  • गंगा नदी के प्रवाह मार्ग की कुल लंबाई 2525 किमी है।
  • सन, अरूण और तामूर कोसी नदी मिलकर कोसी नदी का निर्माण करती हैं।
  • घाघरा नदी का उद्गम स्थल मापचा चुंग हिमनद है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)
  • सुबनसिरी, भारेली तथा मानस नदी ब्रम्हापुत्र नदी के दायें किनारे पर मिलने वाली नदियां हैं।
  • दिबांग, लोहित, धनसिरी तथा कापिली ब्रम्हापुत्र नदी के बाएं किनारे पर मिलने वाली नदियां हैं।
  • व्यास और सतलज नदियों का संगम स्थल हरिके बैराज कहलाता है।
  • भारत की सबसे लंबी नहर ‘इंदिरा गांधी नहर‘ भाखड़ा बांध से निकली है।
  • भाखड़ा बांध विश्व का दूसरा सबसे ऊंचा बांध है।
  • इंदिरा गांधी नहर की लंबाई 468 कि.मी. है।
  • हिमालय पर्वत श्रृंखला से निकलने वाली ‘भागीरथी‘ और ‘अलकनंदा‘ नदियों का संगम देवप्रयाग में होता है।
  • अलकनंदा और मंदाकिनी नदियों का संगम रूद्रप्रयाग में होता है।
  • अकनंदा और पिण्डार नदियों का संगम कर्णप्रयाग में होता हैं
  • बादल फटने के कारण आपदा का शिकार हुआ केदारनाथ मंदाकिनी नदी के तट पर है।
  • चमेरा परियोजना रावी नदी पर है।
  • नाथपा झाकड़ी परियोजना सतुलज नदी पर है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)
  • सलाल, बगलीहार एवं दुलहस्ती परियोजनाएं चेनाब नदी पर हैं।
  • तुलबुल एवं उरी परियोजनाएं झेलम नदी पर है।
  • चंबल नदी अपनी ‘ उत्खात भूमि‘ कके कारण प्रसिद्ध है।
  • बनास, काली सिंध एवं पार्वती नदियां चम्बल की सहायक नदियां हैं।
  • रिहिन्द और उत्तरी कोयल नदी सोन नदी की सहायक नदी है।
  • सोन नदी का उद्गम अमरकण्टक पहाड़ी से हुआ है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)
  • घाघरा नदी को नेपाल में करनाली के नाम से जाना जाता है।
  • गौरी गंगा, शारदा नदी का प्रारम्भिक नाम है।
  • उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में घाघरा और शारदा नदी के संगम को चौक कहते हैं।
  • रिहिन्द परियोजना उत्तरप्रदेशम में सोन नदी की सहायक नदी रिहिन्द पर अवस्थित है। इसके पीछे गोविंद बल्लभपंत सागर जलागार का निर्माण किया गया है।
  • बाणसागर परियोजना सोन नदी पर है इसका निर्माण मध्यप्रदेश के शहड़ोल जिले में किया गया है।
  • चंबल परियोजना मध्यप्रदेश और राजस्थान की संयुक्त परियोजना है। इसके अंतर्गत जवाहर सागर, महाराणा प्रताप एवं गांधी सागर तीन बांधो का निर्माण किया गया  है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)
  • मयूराक्षी बांध झारखंड के दुमका जिले में मसानजोर नामक स्थान पर बनाया गया है। इसे कनाड़ा बांध के नाम से भी जाना जाता है।
  • छालेश्वरी, तुइरिय, तुइवाई एवं रंगीत जल विद्युत परियोजनाएं मिजोरम राज्य में चलाई जा रही हैं।
  • रंगा नदी, पाकी, अपर लोहित, कामेंग व दमवे जल विद्युत परियोजनाएं भारत के अरूणाचल प्रदेश में चल रही रही हैं।
  • गोदावरी प्रायद्वीपीय भारत की सबसे लंबी नदी है जिसे बुढ़ी गंगा या दक्षिण की गंगा के नाम से जाना जाता है। इस नदी का उद्गम त्रियम्बक (नासिक) से हुआ है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)
  • फरक्का बैराज पश्चिम बंगाल में गंगा नदी पर अवस्थित है। इसका निर्माण वर्ष 1961 मंे शुरू किया गया था। 1975 में इसका कार्य पूर्ण हो गया तथा अप्रैल 1975 में इसने काम करना प्रारंभ कर दिया।
  • लक्ष्मण तीर्थ, काबिनी, सुवर्णावती, भवानी और अमरावती नदियां दक्षिण भारत की कावेरी नदी के बाएं तट पर मिलती हैं।
  • शिवनाथ, हसदो, मांद, ईव, जोकिंग और तेल महानदी की सहायक नदियां हैं। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)
  • नर्मदा नदी का उद्गम स्थल मध्यप्रदेश के अमरकण्टक पहाडी से हुआ है। यह जबलपुर के भेड़ाघाट के पास धुआंधार जलप्रपात का निर्माण करती है।
  • केरल की सबसे बड़ी नदी भारतपूझा, जो अनामलाई की पहाडि़यों से निकलती है तथा पोन्नानी नामक स्थान के पास अरब सागर में गिरती है। इसे पोन्नानी नाम से भी जाना जाता है।
  • बैतरणी नदी (ओडिशा) को राउरकेला के पास दक्षिणी कोयल और शंख नदियों के संगम के बाद ब्राहम्णी के नाम से जाना जाता है।
  • उकाई और काकरापार परियोजनाएं तापी नदी पर बनाई गई हैं। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)
  • नर्मदा, तापी, माही, साबरमती एवं लूनी अरब सागर में मिलने वाली नदियां हैं।
  • महानदी की कुल लंबाई 857 किमी है।
  • नर्मदा नदी की कुल लंबाई 1312 किमी है।
  • भारत में प्रवाहित होने वाली सबसे लंबी नदी गंगा है।
  • भारत की सबसे बड़ी नदी गंगा की लंबाई 2525 किमी है। इसकी उत्तरप्रदेश में लंबाई 1150 किमी है।
  • यमुना नदी यमुनोत्री से 6330 मीटर की ऊंचाई से निकलती है और ताजेबाला नामक स्थान पर मैदानी भाग में प्रवेश करती है। इसकी कुल लंबाई 1376 किमी है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)
  • तिब्बत के पठार में स्थित मापचा चुंग हिमनदी से घाघरा नदी निकलती है। इसकी कुल लंबाई 1080 किमी है।
  • सिंधु नदी की समस्त सहायक नदियों में से व्यास नदी का बहाव क्षेत्र पूर्णतया भारत में है।
  • हीराकुंड बांध विश्व का सबसे बड़ा लंबा नदी बांध है। इसे जल विद्युत तथा सिंचाई के अलावा महानदी के डेल्टाई क्षेत्रों में बाढ़ रोकने के लिए बनाया गया है। इसकी लंबाई 4.9 किमी है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)
  • रामगुण्डम परियोजना गोदावरी नदी पर बनाई गई है।
  • रावी नदी का उद्गम स्थल हिमाचल प्रदेश की कुल्लू पहाड़ी में स्थित रोहतांग दर्रा है।
  • कोसी नदी तिब्बत के गोसाईधान चोटी से निकलती है इसकी मुख्यधारा का नाम अरूण है।
  • मैसूर, श्रीरंगपट्टनम, मेत्तूर, तिरूचिरापल्ली और तन्जावुर नगर कावेरी नदी के किनारे अवस्थित हैं।
  • हिमालय से निकलने वाली नदियां पूर्ववर्ती अपवाह प्रतिरूप का निर्माण करती हैं।
  • दक्षिण भारत की अधिकांश नदियां  वृक्षाकार अपवाह प्रतिरूप का निर्माण करत हैं। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)
  • गण्डक नदी नेपाल चीन सीमा के निकटवर्ती स्थान से निकलकर मध्य नेपाल में बहने के बाद चंपारन जिले में प्रवेश करती है। इसके बाद सोनपुर  में गंगा नदी में मिल जाती है।
  • चेमायुंगदुंग हिमानी से निकलकर ब्रम्हपुत्र नदी भारत में दिहांग नाम से प्रवेश करती है।
  • असोम में ब्रम्हापुत्र नदी पर अवस्थित माजुली द्वीप का कुल क्षेत्रफल 1250 वर्ग किमी है।
  • ईब, मॉड, हसदो तथा तेल महानदी की सहायक नदियां हैं।
  • कोयना, भाम, तुंगभद्रा, घाटप्रभा, आदि नदियां कृष्णा की सहायक नदियां हैं।
  • ब्रम्हापुत्र नदी को तिब्बबत में सांगपो के नाम से जाना जाता है।
  • शिवसमुद्रम जलप्रपात कावेरी नदी पर स्थित हैं
  • प्रवदा, पुरना, मनप्रा, पैन गंगा, वर्धा, प्राणहिता आदि नदियां गोदावरी की  सहायक नदियां हैं।
  • सबसे बड़ा डेल्टा गंगा नदी बनाती है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)
  • शारदा नदी प्रारंभ में गौरी गंगा के नाम से जानी जाती है। भारत-नेपाल सीमा के पास इसे काली नदी के नाम से जाना जाता है।
  • रामगंगा नदी, गंगा के बाएं तट पर मिलने वाली सबसे पहली एवं बड़ी सहायक नदी है।
  • मैतूर परियोजना की स्थापना  तमिलनाडु राज्य में कावेरी नदी पर की गई है। मैतूर के पीछे स्टैनले सागर का निर्माण किया गया है।
  • ताम्रपर्णी नदी पर पापनाशम परियोजना का का निर्माण किया गया है।
  • शिवसमुद्रम परियोजना कर्नाटक में कावेरी नदी पर स्थापित की गई सबसे पुरानी जल विद्युत योजना है। कावेरी नदी पर कृष्णराज सागर जलागार का निर्माण भी किया गया है। Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य)
  • शरावती जल विद्युत परियोजना कर्नाटक के शिभोगा में शरावती नदी पर स्थापित की गई है। इसके अंतर्गत लिंगानमक्की जसागर का निर्माण किया गया है।
  • झारखण्ड में स्थित ऊपरी क्षेत्र में ब्राहाम्णी नदी को दक्षिणी कोयल  के नाम से जाना जाता है।
  • चम्बल के अलावा भारत में केन तथा बेतवा नदियों द्वारा गार्ज बनाया जाता है।
  • बांग्लादेश में ब्रम्हापुत्र का नाम ‘जमुना‘ हो जाता है। जमुना के दाईं ओर आकर तिस्ता नदी मिलती है।
  • प्रायद्वीपीय भारत की दूसरी सबसे बड़ी नदी कृष्णा है।
  • प्रायद्वीपीय भारत की कावेरी नदी वर्षभर जल से भरी रहती है।
  • केरल राज्य में प्रवाहित होने वाली सबसे लंबी नदी पेरियार है।
  • भारत में गंगा के बाएं तट पर मिलने वाली अंतिम सहायक नदी महानंदा है।

कृपया, इस Revers Important Questions (नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य) जानकारी को अपने दोस्तों और साथ ही साथ अपने भाई-बहनों के साथ भी शेयर करें। एवं उनकी हेल्प करें एवं अन्य सरकारी भर्तियों (Sarkari Naukri), की जानकारी के लिए Rojgar-Result.com पर प्रतिदिन विजिट करें।

Other Source to Get Govt Jobs update

सरकारी नौकरी डेली अपडेट हेतु Facebook ग्रुप फॉलो करें📥जॉइन Facebook ग्रुप
सरकारी नौकरी डेली अपडेट हेतु Telegram ग्रुप फॉलो करें📥जॉइन Telegram ग्रुप
सरकारी नौकरी डेली अपडेट हेतु Twitter ग्रुप फॉलो करें📥जॉइन Twitter ग्रुप

Note: आप सभी से निवेदन है कि इस जॉब लिंक को अपने दोस्तों को Whatsapp ग्रुप, फेसबुक या अन्य सोशल नेटवर्क पर अधिक से अधिक शेयर करें l आप के एक Share से किसी का फायदा हो सकता है l तो अधिक से अधिक लोगो तक Share करें l हर रोज इस वेबसाइट पर आप सभी को, सभी प्रकार की सरकारी नौकरी की जानकारी दिया जाता है। तो आप सभी प्रकार के Sarkari Naukri की जानकारी पाना चाहते हैं l तो इस Rojgar-Result.com वेबसाइट के साथ हमेशा जुड़े रहे हैं और यहां पर Daily Visit करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
%d bloggers like this: